Bombay Stock Exchange

मैं कई दिनों से निबंध लिखने की सोच रहा हूं। एक एक शब्दों को लेकर। मसलन भीड़, क्रिकेट, मोबाइल, कंप्यूटर, काल सेंटर, कर्मचारी आदि आदि। इन सभी शब्दों को सुनकर जो मेरे दिमाग में चित्र बनता है बस केवल उसे उकेरने की कोशिश करूंगा। मुझे नहीं पता कि मैं इसमें कितना सफल हो पाऊंगा लेकिन अपनी इच्छा को पूरी करने के लिए जो समय मिल पाएगा उसके लिए यह सही जगह है।

तो आज से ही इसकी शुरुआत करता हूं।

शेयर बाजार

नाम सुनते ही बंबई स्टाक एक्सचेंज की बिल्डिंग दिखने लगती है। साथ ही अग्रेंजी में लिखा हुआ दलाद स्ट्रीट का वह बोर्ड जो यह बताता है कि इसका पिन कोड 400001 है।

ज्योतिष के बाद यही एक बाजार है जो भारत में तेजी से फल फूल रहा है। ज्योतिष की तरह इसमें भी मात्र संभावना ही लगाई जा सकती है। शर्तिया रूप से बता पाने का केवल विज्ञापन दिया जा सकता है, बताया नहीं जा सकता है।

यह बाजार लोगों को एक दिन में हजारपति, लखपति, करोड़पति, अरबपति तक बना देती है। यहां के एक उछाल से मुकेश अंबानी भारत के ही लेकिन लंदन में बैठे मित्तल से आगे निकल जाते हैं।

इसकी खबरें अखबार के 14वें पन्ने से निकलकर पहले पन्ने में छा गई। पहले यह अखबार केवल लंबी गाड़ियों के पीछे बोर्ड पर नजर आती थीं। लेकिन अब यह ऐसी छाई कि बिजनेस अखबार का अपना एक बाजार आ गया। जी बिजनेस, सीएनबीसी आवाज, एनडीटीवी प्रोफिट और सीएनबीसी टीवी-18 के साथ रिलायंस बंधुओं ने भी इसको जन जन तक पहुंचाने में बड़ा काम किया।

आज से पांच महीने पहले यहां एक दिन की सबसे बड़ी उछाल का रिकार्ड सचिन के शतक की तरह टूटता रहता था। जैसे सचिन के शतक के रिकार्ड को सचिन ही तोड़ता है ठीक उसी प्रकार सेंसेक्स अपनी रिकार्ड को तोड़ नई रिकार्ड बनाता था जिसे फिर तोड़ता देता था। लेकिन अब समय ने पलटी मारी है और फिर सचिन के शून्य में आउट होने के रिकार्ड की तरह शेयर बाजार में भी गिरावट का रिकार्ड जारी है।

आज ही शेयर बाजार अपनी दूसरी सबसे बड़ी गिरावट के साथ बंद हुआ है। 900 अंकों की गिरावट। निफ्टी अपने 200 दिन के औसत स्तर से नीचे बंद। आंकड़ों का खेल है यह शेयर बाजार। किसी ने इसे जुआ कहा, किसी ने किस्मत तो किसी ने कहा कि लाटरी है। मेरे हिसाब से यह शेयर बाजार है केवल और केवल शेयर बाजार।