बहुत ही खूबसूरत बोल हैं इसके और उतनी खूबसूरती से आवाज दिया है इसे उस्ताद राशिद खान साहब ने। मैंने फिल्म नहीं देखी है। फिल्म का विडियो कुछ समझ नहीं आ रहा लेकिन फिर गाने का स्टैंडर्ड इतना हाई है कि इस मैं पिछले एक घंटे में आठ बार सुन चुका हूं। Hats Off to Whole Team of This Song।

गाने को सुनिए और बोल गुनगुनाना चाहें तो वह भी हाजिर है।

आओगे जब तुम सजना
आओगे जब तुम सजना
अंगना फूल खिलेंगे

बरसेगा सावन,
बरसेगा सावन
झूम झूम के
दो दिल ऐसे मिलेंगे

आओगे जब तुम सजना
अंगना फूल खिलेंगे

नैना तेरे कजरारे
नैनों पे हम दिल हारे हैं

अंजाने ही तेरे नैनों ने
वादे किए किए सारे हैं
सांसों ही लहर   मद्धम चले
तो से कहे

बरसेगा सावन
बरसेगा सावन
झूम झूम के
दो दिल ऐसे मिलेंगे

आओगे जब तुम सजना
अंगना फूल खिलेंगे

चंदा को उठा रातों में
है जिंदगी तेरे हाथों में
पलको पे झिल मिल तारे हैं
आना भरी बरसातों में
सपनों का जहां
होगा खिला खिला

बरसेगा सावन,
बरसेगा सावन
झूम झूम के
दो दिल ऐसे मिलेंगे

फिल्म- जब वी मेट
संगीतकार- संदेश शांडिल्य
गीतकार- इरशाद कामिल
गायक- उस्ताद राशिद खान