संवेदनाओं का मरना क्या होता है?

एमबीबीएस मुन्नाभाई ने कहा, यह शरीर है। प्रयोग करने की प्रयोगशाला नहीं।
प्रोडक्ट और लैब की तरह इसका उपयोग हो रहा है।
दो रुपये और दो जान के खेल में एक लाख का मुआवजा
इस खबर पर आंखों से आंसू भी नहीं निकलते।
केवल दिल से निकलती है एक आह!
क्या संवेदनाओं का मरना इसी खबर को कहते हैं?

..तो फाइनली आज ‘तुलसी’ टें बोल जाएगी

star-tulsi.jpg

इस किरदार ने भारतीय घरों में बहुत कुछ बदला है। लोगों के रात के खाने का समय बदल दिया था इस सीरियल ने या यूं कहें इस किरदार ने। पत्नी पति से कहती है एक बार सीरियल खत्म हो जाये फिर खाना बाना देती हू

भारतीय टेलीविजन इतिहास की पहली फैशनेबल बहु ‘तुलसी’ का आज अंतिम दिन होगा। अगर मैं गलत नहीं हूं तो इससे पहले ‘स्वाभिमान’ ही एक ऐसा सीरियल था जिसमें ग्लैमर दिखता था और उसमें अंजू महेंद्रु का किरदार ग्लैमरस किरदार में दिखती थी।

खैर, ‘क्योंकि सास भी कभी बहु थी’ की सबसे पुरानी किरदार तुलसी विरानी। आज के प्रोग्राम में एक दुर्घटना में तुलसी की मौत हो जाती है।
कई शादी-शुदा पुरुष तुलसी को सबसे बड़ी विलेन मानते हैं। आखिर उसने ड्राइंग रूम से निकलकर उसके बेडरूम तक की दुनिया को बदला है। आज हर घर में ड्राइंग रूम में और बेड रूम में टीवी जो होता है।

एकता कपूर का इसके बाद घर-घर में नाम हो गया है। वो अलग की बात है कि ऑरकूट में I hate Ekta Kapoor नाम से भी एक कम्यूनिटी बनाई गई है। लेकिन वो एक गाना है ना.. ‘जब से मैं थोड़ा सा बदनाम हो गया, यार मेरा बड़ा नाम हो गया’।

वैसे मेरा अपना मानना है कि जिस तराजू पर टीवी धारावाहिकों को तौला जाता है, यह सब उसी का खेल है। टीआरपी ही तुलसी को मरवा रहा है और मुझे कोई ताज्जुब नहीं होगा जब यही टीआरपी तुलसी को जिंदा भी कर दे।

हां!!! जिस किसी को भी इसके बारे में पता चल रहा है सब अपने-अपने एक्सपर्ट कमेंट दे रहे हैं आपका क्या कमेंट है?

माफ किजिएगा अगर किसी को यह शीर्षक बुरी लगी तो। मैं उनसे निजी रूप से माफी मांगने को तैयार हूं। अपना फोन न यो मेल आई डी बता दें।

राजस्थान का हाल, बड़ा बेहाल, कुछ चित्र…

प्रभावित इलाक़े

total-deatl.jpg

ये है पूर्वी दिल्ली का नजारा

mobdelhi.jpg

मीणा समुदाय के लोग मोटर बाइक में

meenacumm.jpg

जयपुर-अजमेर हाइवे

jaipurajmr.jpg

मीणा समुदाय के लोग, देसी कट्टा दिखाने का मौका

goli.jpg

दिनवार ब्यौरा  

agnichkra.jpg

गुज्जर समुदाय ने ट्रक को जला दिया

 fbdgujjr.jpg

पिछले दिन से राजस्थान जल रह है लेकिन वसुंधरा राजे कि तरफ से कोई बयाँ नही आया है।  मुझे लगता है अपनी कोई मूर्ति बनवा रही होंगीउन्हें अपनी पूजा करवाने का शौक काफी है

बीबीसी हिंदी में जरी पोल के अनुसार

राजस्थान में जारी गूजर समुदाय का संघर्ष:

बढ़ते जातिवाद का प्रतीक है (333 votes)  41.2%

सुविधाएँ पाने की अनुचित कोशिश है (361 votes) 44.7%

दबे-कुचले लोगों की जायज़ माँग है (114 votes) 14.1%

आप क्या कहते हैं ???

सभी में पांच, पाक पोर्टल पर छह की मौत

मुझे नहीं पता कि यह क्यों है लेकिन गुगल के न्यूज सर्विस पर जब मैंने हैदराबाद ब्लास्ट के बारे में देखा तो मुझे मिला कि ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया, कनाडा वालों को मालूम है कि भारत के दक्षिण राज्य आंध्र प्रदेश में एक विस्फोट हुआ जहां पांच की मौत हो गई लेकिन हमारे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के एक समाचार पोर्टल को जानकारी है कि छह लोग मारे गए। ऐसा कैसे हो सकता है?? मुझे लगता है कि इनका कुछ नहीं हो सकता है।

blast screenshot

खबर बदल ना जाए इसके लिए मैं इस पेज को स्कीनशाट लगा रहा हूं।

वजीर्निया हत्याकांड व अर्थशास्त्र

देश तरक्की कर रहा है। और करेगा। लेकिन इसके साथ ऐसी घटनाएं होती रहेंगी। लोग पैसा और नाम के पीछे अंधी दौड़ लगा रहे हैं। दूसरा पहले से आगे निकलना चाहता है। पता नहीं कौन-कौन से तरीके लोग अपना रहे हैं। सोमवार को वजीर्निया में कोरियन मूल के एक लड़के ने पहले 33 लोगों की जान ले ली।

1999 के आंकड़ों के अनुसार कुल 21 करोड़ लोगों के पास अपनी बंदूक थी। आज अमेरिका की जनसंख्या तीस करोड़ पंद्रह लाख से कुछ ज्यादा है। अमेरिकी कानून के मुताबिक अगर आप वोट दे सकते हैं तो आप बंदूक भी खरीद सकते हैं।
मैंने इंटरनेट में हथियारों से हुई आय को ढूंढना चाहा लेकिन मिला नहीं। खैर यह कारोबार अमेरिका में अरबों में होगा।

बात करते हैं वजीर्निया हत्याकांड की तो मैं यह बता दूं कि जिस छात्र पर इसका आरोप लगा है उसके नाम के डोमेन को अमेरिका के ही किसी शख्स ने बुक करा लिया है। यह बात दीगर है कि उसका उपयोग वह वजीर्निया एकेडेमी के लिए ही कर रहा है।

यह है वजीर्निया हत्याकांड का अर्थशास्त्र

Kya? Bob Woolmer nahi rahe!!!

Bob Woolmer 

New York Times ne Parvez Musharraf ke baare mein likha hai ki Musharraf world ki sabse khatarnaak naukari kar rahe hain. Agar Musharraf Pakistan ke rashtapati hokar surakhit nahi ho sakte to Pakistani Cricket team ke coach Bob Woolmer kaise surakshit ho sakte hain.

Ab mujhe ye to nahi pata ki ye maut saadharan maut hai ya fir koi durghatna. lekin shuraati khabawo se pata chalta hai ki yah koi saajish hi hai. Report on BBC Hindi and NDTV with some comments

Bob Woolmer Official website

Bob Woolmer Wikipedia

|