मैं यह जो सवाल पूछ रहा ह इसके पीछे वजह है. चीन एक देश है और वो भारत का पडोसी राज्य है. इतना टू मुझे पता है लेकिन… आज जब संचार माध्यम इतना सरल हो गया है फ़िर भूकंप में मरने वालो का आंकडा सही क्यों नही आ रहा है. Xinhua चीन एक समाचार एजेन्सी है देखिये क्या ख़बर दे रहे हैं. इस पूरे ख़बर में कही यह जिक्र नही है की मरने वालो की संख्या क्या है? Times of India की खबर है 20000 लोग मारे गए(Print Edition). Hindu की ख़बर है ८७०० लोग मरे गए. NDTV की Website इसे फोकस ख़बर बनाती है और वहा भी 8700 के मारे जाने की ख़बर है. बीबीसी हिन्दी का कहना है की भूकंप में मरने वालो की संख्या 10000 के करीब.

New York Times मेरे इस पोस्ट लिखने से ९ मिनट पहले ख़बर लगाती है, भूकंप में हजारो मरे.  Intro कहता है 8500 लोग मरे गए. यह ख़बर भूकंप स्थल से लिखी गई है. Chengdu बीजिंग से ८०० मील दूर है

मैं यह नही समझ पा रहा ह कि चीन अपनी खबरों को सही तरीके से क्यों नही दे रहा है? इनको ढकने कि क्यों कोशिश की जा रही है. अगर २१ वी सदी में भी ख़बर सही नही आती है तो फ़िर कब. बीजिंग में ओलम्पिक खेल होने वाले हैं इनके मद्देनजर वहा बाहरी मीडिया का जमावाडा बढेगा, इसके बावजूद ख़बर सही नही आ रही है क्यों ?? आख़िर यह चीन है कहा और क्या है