nuclear deal

मैं मजाक नहीं कर रहा हूं। सच कह रहा हूं। आप भी मानेंगे कि एटमी डील के पक्ष में सभी पार्टियां हैं। मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा, समर्थन वापस लेने वाली लेफ्ट और कांग्रेस तो है ही। लेकिन थोड़ा बदलाव चाहती पार्टियां। क्या..?

कांग्रेस : अभी हो जाए एटमी डील सबसे बेहतर।
भाजपा : एटमी डील कांग्रेस के साथ ना होकर हमारे साथ हो तब बेहतर।
लेफ्ट : एटमी डील अमेरिका के साथ ना होकर चीन या रूस के साथ हो तो बेहतर।

यही सच है।