indian politicsमेरा कम पसंदीदा विषय,
राजनीति
अजीब है स्थिति
लाल लाल हुए जा रहे हैं
भगवा को सही-गलत सूझ नहीं रहा
कांग्रेस मोहरों की गणित सीख रही

हर एक इंसान की किसी पार्टी का फालोअर होता है।
किसी को प्रधानमंत्री मेकर लालू पसंद है
किसी को भावी प्रधानमंत्री राहुल
किसी को एनाउंनस्ड प्रधानमंत्री आडवाणी
किसी को वर्तमान प्रधानमंत्री मनमोहन
किसी को सुपर प्रधानमंत्री सोनिया
राजनीति में तथ्यपरक बातें कम
वस्तुपरक बातें ज्यादा होती हैं

आप पूरे घटनाक्रम पर नजर डालिए
शेक्सपियर का नाम में क्या रखा है
फेल हो रहा है,
लखनऊ हवाईअडडे का नाम बदल
चौधरी चरण सिंह हवाईअड्डा हो गया
अजीत सिंह, बसपा के करीब हो आए

दोस्तों अपने विचारधारा को टटोलिए
सोचिए, किस पार्टी के साथ हैं आप?
एटमी डील अच्छा है या नहीं?
कांग्रेस जो मोहरे इक्टठे कर रही है,
भाजपा जो ललचाई नजरों से ताक रही है,
लेफ्ट जिनके पास अमेरिका के अलावा और कुछ नहीं है
या उन नेताओं के साथ, जिनको जेल से बेल मिल रहा है..

किनके साथ हैं आप?

यह 22 तारीख तक का गुणा-भाग है
इसके बाद के समीकरण बाद ही बदलेंगे
चुनाव और चुनाव बाद की राजनीतिक चर्चा तो आप भी समझ जाएंगे

तो किसके साथ हैं आप?