पोस्ट लिखते हुए पहले हेडिंग देने की इच्छा हो रही थी मोदी का आखिरी इंटरव्यू। लेकिन लिखा नहीं..! कारण सीधा सा, मैं भविष्य नहीं देख सकता।

आज सीएनएन आईबीएन के मशहूर प्रोग्राम डेविल्स एडवोकेट में मोदी इंटरव्यू के बीच से माइक निकाल कर चले गए। उससे पहले पानी मांगा, पिया और..।

अनिल कपूर की फिल्म नायक में भी ऐसा ही कुछ एक सीन है। अनिल कपूर सवाल पूछता जाता है और मुख्यमंत्री बने अमीरश पुरी इसका जवाब देते जाते हैं लेकिन पुरी भी एक बार फंस जाते हैं और ऐसे ही बीच इंटरव्यू छोड़ कर जाना चाहते हैं। अनिल कपूर ने तो पुरी को रोक लिया था लेकिन करण थापर वाक पटु नरेंद्र मोदी को रोक नहीं पाए।

खैर जो थापर ने सवाल किया था उसे आप यहां पढ़ सकते हैं। और उसके फुटेज आपको यहां मिलेंगे।

मैं नहीं जानता कि नरेंद्र मोदी इस बार जीत पाएंगे या मेरा नहीं लिखा जाने वाला हेडिंग सही हो जाएगा। जो भी होगा अगर मेरी बात सही हुई तो मोदी अपना उन सारे बाबाओं से अपना राशिफल दिखवा लें, मुमकिन है उनका खराब दौर शुरू हो जाएगा। मुमकिन है शुरुआती दिनों में वह भी अस्पताल में स्वास्थ्य लाभ लेंगे।

और अगर वह नहीं भी हारते हैं तो यह राजनीति है यहां कोई अजेय नहीं है। कभी तो हारेंगे.. और जिस दिन भी हारेंगे वहीं से खराब दिन शुरू हो जाएगा।

मुझे लोकतंत्र पर पूरा भरोसा है अगर मोदी की जीत होती है तो मोदी सच में बहुमत गुजरातियों के लिए अच्छे होंगे लेकिन नहीं.. तो फिर आप राजनीति का बदला और कानून का कसाव देख पाएंगे।