दिल्ली में रहते हुए पांच साल से अधिक हो गए। पिछले दो सालों से अकेले रह रहा हूं। उस पर से यह भाव विहीन शहर। मेरा पड़ोसी मेरा नाम नहीं जानता। हां, काम जानता है। वह भी मुझे लगता है कि पत्रकारिता के ग्लैमर के कारण। किसी बैंक में मैनेजर होता तो शायद ही जान पाता।

ना कोई संवाद, ना कोई विवाद। दफ्तर आना और चुपचाप अपने कमरे में चले जाना। किताबें पढ़ना, टीवी देखना। मेरे कमरे में मेरे दोस्त भी नहीं आते। अगर हमें मिलना होता है तो वह मुझे अपने यहां बुला लेते हैं।

मेरे कमरे से नजदीक नोएडा का सेक्टर 18 पड़ता है जहां हम दोस्त कभी-कभार मिल लेते हैं।

खैर जिसकी कमी खली उसके बारे में बात करूं। घर में तीन भाई-बहनों में सबसे छोटा होने के कारण मुझे थोड़ा ज्यादा ही प्यार मिला है। कल दीदी ने फोन किया तो बताया कि हम लोग फुलोरी खा रहे हैं। तो मैंने कहा यहां तो मैंने एक भी जिनोर नहीं खाया है, तो फुलोरी कहां से मिलेगा?

* फुलौरी: मक्के को पीस कर बनाया जाने वाला मीठा खाद्य पदार्थ
* जिनोर: मक्का, भुट्टा

तो भई यह मेरी पीड़ा। दिल्ली में रिश्तेदारों की बात की जाए तो मेरे एक मौसेरे भाई रहते हैं। भाभी इटावा की हैं। उन्हें फुलौरी के बारे में नहीं पता। उन्हें पता है, चिल्ला, मंगौड़े और पता नहीं क्या-क्या। जो मुझे नहीं पता था।

क्या आप लोगों को इस बारे में कुछ पता है? अगर नहीं पता तो इस लिंक को देखें। इसमें से प्याज, धनिया, नमक वाला आइटम हटा कर केवल चीनी डाल दीजिए फुलौरी तैयार हो जाएगा।