आप नए ब्लागर हैं? आपके ब्लाग की हिट कम है? फेमस होना चाहते हैं? कोई बात नहीं मैंने एक नई खोज की है। शर्तिया है। कुछ so called (तथा कथित) मशहूर ब्लागरों के लफड़े में फंस जाएं। और उनके नाम से एक पोस्ट लिख दें। बस!!! हो गया काम। आप देखिए आपके ब्लाग को खूब सारी हिट मिलेंगी।

एक और तरकीब है। राजनीति के दो विरोधी गुटों के बारे में लिखना शुरू कीजिए। राइटिस्ट व मोरल पुलिसिंग को खूब भला-बुरा कहिए। कोई ना कोई आपको काउंटर जरूर करेगा। ना हो तो उनका सपोर्ट करिए। क्योंकि आपका उद्देश्य विचार रखना नहीं है। आपका उद्देश्य सस्ती लोकप्रियता और हिट पाना है। लोगों को अशांत कर दीजिए। आपके ब्लाग को हिट ही हिट मिलेंगे।
ऐसे मुद्दों पर एकदम बात ना करें जो थोड़ी स्वस्थ बहसें हो सकती हैं। उन पर आपका ध्यान होना चाहिए जो विवाद को बढ़ावा दे।

मूल बात

हर चौथा हिंदी ब्लागर यही कर रहा है। माना कि ब्लाग में ब्लागर अपनी निजी, सामजिक और पसंद की बातों को लिख सकता है। लेकिन केवल लिखने के लिए ही ब्लाग लिखना.. ना भाई ना।
सुनीता नारायण को कोई नहीं जानता था लेकिन एक रिसर्च और उसके बाद रिपोर्ट ने उसे रातों-रात लोगों के जुबान पर ला दिया। मेहनत करें। और कुछ अच्छा लिखें। अच्छा ना लिखें, तो कम से कम विवाद तो ना फैलाएं। पहले नेता लोग अतिक्रमण करते थे अब हम ब्लागर करने लगे हैं। कितनी शर्म की बात है।