सोनिया, मायावती, करुणानिधि, मुलायम… : पार्टी बड़ी या नेता

आज का अखबार तो आप लोगों ने देखा होगा। सभी अखबार के पहले पन्ने पर यह खबर थी। हेडिंग लगी हुई थी। दयानिधि मारन का इस्तीफा। पार्टी सुप्रीमो के कहने पर मारन ने इस्तीफा दिया। क्यों?

भारत में भाजपा व लेफ्ट को छोड़कर अमूमन सभी पार्टियों का कोई ना कोई एक परमानेंट मुखिया है। कांग्रेस तो नेहरू-गांधी परिवार की जागीर की तरह है। मान्यवर कांशीराम के जाने के बाद मायावती अकेली ‘मालकिन’ है बसपा की। मुलायम सिंह यादव केवल नाम से मुलायम हैं समाजवादी पार्टी में इनकी पकड़ बड़ी कठोर है। रामविलास पासवान, लालू प्रसाद यादव, जयललिता सरीखे नेता पार्टी पर हमेशा अपनी पकड़ मजबूत रखते हैं।

आप लोगों ने मायावती के शपथ समारोह में बसपा पार्टी नेताओं को मायावती का पांव छूते तो देखा होगा!!! क्या पार्टी से बड़ी इनकी शख्सियत है? क्या नेता पार्टी के नाम पर चुनकर आते हैं या अपने सुप्रीमो के नाम पर या अपने काम-नाम के बूते। यह भारत का राजनीतिक मिजाज है। साथ ही यह हमारा सामाजिक व्यवस्था को भी बतलाती है।

Maya power

आपको किसी भी आफिस में कोई भी कर्मचारी यह कहता मिल जाएगा कि अगर तरक्की पानी है तो बॉस से जुगाड़ बना के रखो। भले ही बॉस कंपनी का मालिक ना हो।

भारत के वर्तमान राष्ट्रपति ने अभी कुछ दिन पहले कहा कि भारत में दो दलीय व्यवस्था होनी चाहिए। इससे भारत की विकास की गति तेज होगी। कई पार्टियों ने इसका विरोध किया।

लेकिन क्या यह जो व्यवस्था चल रही है उससे भारत का मिशन-2020 पूरा हो पाएगा? मेरा व्यवस्था कहने से मतलब अपनी हेडिंग की ओर ध्यान दिलाने से है। मारन की क्या गलती थी यही कि वह उस अखबार के मालिक के छोटे भाई हैं जिस पर वह सर्वे छपा था कि करुणानिधि के बाद उनका उत्तराधिकारी कौन होगा? दयानिधि मारन को तरजीह क्यों नहीं दी गई?

इन सब बातों को सोचकर कई लोग यह कह देते हैं.. 100 में से 80 बेईमान, फिर भी मेरा भारत महान।

मायावती: कुछ तस्वीरे, कुछ कह रही हैं…

बदले बदले से सरकार नजर आते हैं …..इनके तो बर्बादी के आसार नजर आते हैं

Mulayam in oath ceremony

मायावती का माँ प्रेमMaya mummy

अपने आंखो से पट्टिया हटाओहाथी नही… “बहुत बड़ाहाथी है

Cartoon

मायादेवी

Maya power

और साथ ही आज के कुछ अखबारो के शीर्षकअमर उजाला : छक्के पे छक्का

जनसत्ता: मुख्यमंत्री बनते ही माया ने दिखाए तेवर

दैनिक जागरण: सीएम बनते ही फार्म में दिखी मायावती

राष्ट्रीय सहारा: चुनाव घोषणा बाद के सभी फैसले रद्द

Hindusatan Times: UP bureaucrats realise Maya is memsahib

Times of India: Maya in saddle, goes after SP

|